बलिदानी इंस्पेक्टर सुबोध की पत्नी के बयान से बेनकाब हुए हिन्दू संगठन विरोधियों के चेहरे.. सुदर्शन की खबर पर अब तक की सबसे बड़ी मुहर

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोकशी के बाद हुई हिंसा में उत्तर प्रदेश पुलिस के बलिदानी इंस्पेक्टर सुबोध की पत्नी ने सनसनीखेज खुलासा किया है. इंस्पेक्टर सुबोध की पत्नी का ये खुलासा उन हिन्दू संगठन विरोधियों को चेहरे को बेनकाब कर रहा है जो बुलंदशहर हिंसा के बहाने अपने हिन्दू विरोधी एजेंडे को लागू करने का नापाक प्रयास कर रहे थे. इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की पत्नी ने कहा है कि उनके पति गोतस्करी के खिलाफ अभियान चला रहे थे, जिसके कारण उन्हें काफी धमकियां मिल रही थी.

बता दें कि बलिदानी पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के परिवार गुरुवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास पहुंचकर सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी. सीएम योगी से बातचीत में सुबोध कुमार सिंह की पत्नी रजनी ने उन्हें बताया कि, कैसे गोकशी करनेवालों के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के बाद उन्हें धमकी भरे कॉल्स आते थे. रजनी ने बताया कि गोकशी के तीन आरोपियों को स्याना पुलिस थाने द्वारा गिरफ्तार भी किए गए थे. मुख्यमंत्री योगी के साथ बैठक में बाद मीडिया में सर्कुलेट हुए एक वीडियो में रजनी यह कह रही हैं कि, मेरे पति कॉल कर पुलिस थाने (स्याना) बुलाते थे और मैं वहां पर जाती थी, आखिरी बार जब मैं वहां पर गई तो गोकशी के आरोप में तीन लोग गिरफ्तार किए गए थे.

बैठक में मौजूद एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि इंस्पेक्टर की पत्नी ने मुख्यमंत्री से पति को मिलनेवाली धमकियों के बारे में बताया है. साथ ही यह भी कहा है कि वे धमकी भरे कॉल्स को रिकॉर्ड किया करते थे. बैठक में रजनी ने बताया कि, उनकी मौत के बाद से उनका मोबाइल गायब है, जिसके साथ सारी रिकॉर्डिंग चली गई है. उन्होंने कहा कि मोबाइल ले जाने वाला आदमी यह जानता था कि, वह मोबाइल में धमकी भरे कॉल्स रिकॉर्ड थे. उन्होंने यह भी कहा कि इंस्पेक्टर सुबोध मोबाइल की सारी रिकॉर्डिंग लैपटॉप में डाउनलोड करते थे, लेकिन पिछले एक महीने से वे ऐसा नहीं कर रहे थे. इंस्पेक्टर सुबोध की पत्नी का ये बयान साफ़ इशारा करता है कि इंस्पेक्टर सुबोध गोतस्करों के निशाने पर थे.

Share This Post

Leave a Reply