कांग्रेस शासित पंजाब में माँ के साथ मार डाला गया एक और पत्रकार लेकिन इस बार छाई है अजीब सी खामोशी,, न जाने क्यों ?

पंजाब : हाल ही में पत्रकारों पर हमले और हत्याओं की वारदात बढ़ती जा रही है। वामपंथी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के बाद हंगामा मच गया था. पत्रकार की खुले आम हत्या पर विरोध प्रदर्शन किया गया. हत्या का आरोप हिंदू संगठन तक पर लगा दिया गया. टीवी से लेकर अखबारों के फ्रंट पेज पर गौरी लंकेश हत्या की खबर छायी रही. लेकिन जब कांग्रेस शासित पंजाब में माँ के साथ एक और पत्रकार मार डाला गया तो इस बार अजीब सी खामोशी छाई हुई है. न जाने क्यों ? क्या जो पंजाब में पत्रकार की बेरहमी से हत्या हुई है वो हत्या नहीं है ? इस बार मामला सामने आया है पंजाब से, जहां मोहाली में वरिष्ठ पत्रकार केजे सिंह और उनकी मां गुरुचरन कौर संदिग्ध अवस्था में मृत पाए गए।

सुत्रों के मुताबिक, पुलिस को आशंका है कि यह डबल मर्डर का केस है। पत्रकार केजे सिंह और उनकी मां की हत्या की जांच के लिए SIT गठित की गई है। इसके साथ ही घर से कई चीजें गायब मिली, जिसमें कार्ड, टीवी और अन्य आइटम शामिल थे, जिससे पता चला है कि उक्त हत्या को लूट की नीयत से अंजाम दिया गया। बता दें कि केजी सिंह इंडियन एक्सप्रेस के न्यूज एडिटर रह चुके हैं।

साथ ही उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया और द ट्र‍िब्यून में भी काम किया है।

वहीं, पूर्व मुख्‍यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने ट्विट कर मामले कि निंदा करते हुए लिखा कि अभी सुना कि वरिष्‍ठ पत्रकार केजे सिंह की उनकी मां के साथ हत्‍या कर दी गई। इस हत्‍या की निंदा करता हूं और अधिकारियों से दोषियों को जल्‍द पकड़ने की अपील करता हूं। फिलहाल हत्या के सही कारणों का पता नहीं चल सका है। पंजाब पुलिस हर एंगल से केस की जांच कर रही है।

एक पत्रकार करनाटक में मारी गयी और एक पंजाब में लेकिन लोगो का रोष केवल वामपंथी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर जागा। जो पंजाब में पत्रकार का क़त्ल हुआ उस पर किसी ने उफ़ तक करना ज़रूरी नहीं समझा। आखिर क्यों ?
  

* फोटो सांकेतिक हैं 

Share This Post

Leave a Reply