Breaking News:

जब तक उसने पाकिस्तान परस्ती की तब तक उसको कुछ नहीं कहा.. जैसे ही उसने भारतमाता की जय कहा, नमाज तक में फेंके जाने लगे जूते

जब तक वह पाक परस्ती करता रहा तब तक वो उसकी जय जयकार करते रहे. इधर पाकिस्तान लगातार घुसपैठ कर रहा था तथा भारतीय सेना के जवान अपनी शहादत ले रहे थे लेकिन उसके बाद भी वह पाकिस्तान की वकालत करता था तथा वो लोग उसे अपना हीरो मानते थे. लेकिन जैसे ही उसने भारतमाता की जय कहा वो उग्र हो गये तथा स्थिति ये हो गयी कि उसके ऊपर जूते तक फेंके गये. हम बात कर रहे हैं जम्मू कश्मीर के नेता फारुख अब्दुल्ला की. खबर के मुताबिक, जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री व नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के खिलाफ बकरीद के दिन श्रीनगर में एक दरगाह में ईद की नमाज के दौरान नारेबाजी की गई. उनके साथ धक्कामुक्की की गई और उन पर जूते तक फेंके गए.

आपको बता दें कि फारुख अब्द्दुल्ला इमाम द्वारा हजरतबल दरगाह में ईद की नमाज शुरू कराने गये थे लेकिन नमाज शुरू होने से पहले ही अब्दुल्ला को अपने खिलाफ नारेबाजी का सामना करना पड़ा. कई लोगों  ने अब्दुल्ला पर जूते फेंकने भी शुरू कर दिए. इससे अफरा-तफरी का माहौल बन गया, जिसके चलते फारूक को मजबूरन नमाज स्थल से वापस लौटना पड़ा. इस दौरान यहां भारी अफरातफरी का माहौल बन गया. इस घटना के बाद अब्दुल्ला ने कहा, मैं डरने वाला नहीं हूं. अगर ये समझते हैं कि इससे आजादी आएगी तो मैं इनको कहना चाहता हूं कि पहले बेगारी, बीमारी और भुखमरी से आजादी पाओ. उन्होंने कहा कि ये देश हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी का है जो यहां रहते हैं. साथ ही उन्होंने आज के हालात में भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत की भी अपील की.

गौरतलब है कि दरअसल, 21 अगस्त को पूर्व पीएम दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित सर्वदलीय प्रार्थना सभा में अपने भाषण के दौरान अब्दुल्ला ने अटल को याद करते हुए भारत माता की जय के नारे लगाए थे. उन्होंने अटल को शांति का पैरोकार बताते हुए कश्मीरियों का सच्चा दोस्त बताया था. भाषण के अंत में उन्होंने भारत माता की जय के नारे लगाए थे. इसी का विरोध उन्हें बकरीद के दिन झेलना पड़ा. जब तक पाक परस्ती करते थे तब तक कश्मीरी मजहबी कट्टरपंथी उसके साथ खड़े थे लेकिन भारतमाता की जय बोलते ही अब्दुल्ला पर जूते फेंके गये. लेकिन आश्चर्य नहीं होना चाहिये कि इन उन्मादियों को भी भटका हुआ नौजवान बोल दिया जाये.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *