हारून द्वारा बकरी के बलात्कार के बाद रात रात भर जागकर अपने जानवरों की रखवाली कर रहे हैं लोग… अपने जानवरों को घर में बांधना शुरू किया…

हरियाणा के मेवात में 25 जुलाई को एक ऐसी घटना घटित हुई जिससे शर्म भी शर्म से शर्मशार हो गयी. मेवात में हारून, जफर तथा उनके 6 अन्य साथियों ने इंसानियत को बेदर्दी के साथ तार तार करते हुए एक बकरी के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया. दरिंदों की हैवानियत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसके बाद बकरी की मौत हो गयी. जिसने भी इस घटना को सुना वह सन्न रह गया तथा यही सोचने लगा कि आखिर वो कौन सी सोच है जो अपनी हवस की पूर्ति के लिए दरिंदगी की सारी हदें पार कर देती हैं ? वो कौन सी सोच है जो अपनी दुराचारी सोच का शिकार कभी मासूम छोटी बच्चियों तक को भी बना लेती हैं तो कभी अपनी माँ की उम्र की महिलाओं तक को नहीं छोडती ? लेकिन इस बार तो इस बहसी सोच ने बकरी के ही साथ हैवानियत का नंगा नाच कर डाला.

हारून व उसके साथ बकरी के साथ बलात्कार की घटना के बाद क्षेत्र के लोग दहशत में हैं तथा तथा रात रात भर जागकर आपने पशुओं गाय, भेंस, बकरी आदि की रखवाली कर रहे हैं. स्थिति ये हो गयी है कि इस मौसम में भी लोगों ने आपने जानवरों को घर के अन्दर बांधना शुरू कर दिया है. क्षेत्रवासियों का कहना है कि उन्हें रात भर जागकर आपने पशुओं की रखवाली करनी पड़ रही है क्योंकि वह नहीं चाहते कि कोई भी हारून जैसा दरिंदा उनकी बकरी या अन्य किसी पशु के साथ हैवानियत दिखाए. लोगों का कहना है कि घटना के के तीन दिन बाद भी पूरा क्षेत्र हारून तथा उसके साथियों की दरिंदगी से दहशत में है. ज्ञात हो कि हरियाणा के नूंह जिले के मेवात के मरोड़ा गांव में 25 जुलाई को हारून, जफर सहित 8 बहसी उन्मादियों ने एक बकरी के साथ गैंगरेप किया था,, जिसके बाद बकरी की मौत हो गयी थी.

क्षेत्र के लोगों का भय सिर्फ इतना ही नहीं है कि उन्हें रात भर जागकर आपने पशुओं को रखाना पड़ रहा है बल्कि लोगों का कहना है कि ये क्षेत्र उनके लिए असुरक्षित हो गया है क्योंकि जब यहाँ हारून जैसे दरिंदों के कारण जानवर सुरक्षित नहीं है तो बहन-बेटियां कैसे सुरक्षित होंगी? ये बात सत्य भी है कि जो व्यक्ति बकरी के साथ बलात्कार जैसी घटना को अंजाम दे सकता है, वो किसी महिला को, किसी बच्ची को कैसे छोड़ सकता है. इस घटना के बाद जहाँ एकतरफ पशुओं की रखवाली की जा रही हैं तो वहीं क्षेत्र की बहन बेटियाँ भी बाहर निकलने में असुरक्षित महसूस कर रही हैं. लेकिन इसके बाद जो सबसे बड़ा सवाल है वो यही सवाल है कि आखिर वह कौन सी तालीम है जिसे जानने के बाद इंसान ऐसी शर्मशार घटना को अंजाम दे जाता है? आखिर ये तालीम, ये शिक्षा मिलती कहाँ से जो इन्सान को इतना बड़ा दरिंदा बना देती है. फिलहाल इस घटना के बाद केवल मेवात ही नहीं बल्कि जिसने भी इस घटना को सूना है, वह शर्म से शर्मशार है, सन्न है.

Share This Post

Leave a Reply