ममता शासित कोलकाता पुलिस ने CBI को लिया हिरासत में तो कमलनाथ शासित मध्यप्रदेश में गाँव वालों ने पुलिस को बनाया बंधक

जहाँ एक तरफ भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया का ध्यान खींच रखा है पश्चिम बंगाल ने तो वहीँ अब मध्य प्रदेश में एक नया वाकया हुआ है . फिलहाल पश्चिम बंगाल की घटना पर अपने हिसाब से राय रख रही कांग्रेस के लिए ये खबर किसी भी हालत में सही नहीं कही जा सकती है और खुद उनके लिए ये एक बड़े मंथन का विषय बन चुकी है . ज्ञात हो कि जिस प्रकार से पश्चिम बंगाल में सीबीआई को बंगाल पुलिस ने हिरासत में लिया है ठीक वैसे ही मध्य प्रदेश में एक और असंवैधानिक कृत्य हुआ है .

ज्ञात हो कि भारतीय जनता पार्टी मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद लगातार आक्रामक अंदाज़ में कानून व्यवस्था आदि को कटघरे में खडी कर रही है . उन तमाम आरोपों को बल तब मिला जब मध्य प्रदेश में उन्मादी हुई भीड़ ने पुलिस वालों पर ही हमला कर दिया और उनको बंधक बना डाला .. इस मामले में पुलिस ने 20 से ज्यादा ग्रामीणों पर मुकदमा दर्ज किया है. 8 मुख्य आरोपियों को नामजद किया गया है. इन सभी लोगों को पुलिस को बंधक बनाने और पुलिस के काम में बाधा डालने के आरोप हैं.  पुलिस टीम ग्रामीणों की गिरफ्त से बाहर निकालने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल गांव पहुंचा. जिसके बाद सभी पुलिसकर्मियों को मुक्त करा लिया गया.

सूत्रों से मिल रही खबरों के अनुसार एक सब इंस्पेक्टर अपनी टीम के साथ वांछित युवक को हिरासत में लेने के लिए चिन्नोनी थाना इलाके के एक गांव में पहुंची थी. लेकिन गांव में पुलिस के पहुंचते ही कुछ ऐसा हुआ जो शायद खुद पुलिसवालों ने भी न सोचा हो.ग्रामीणों ने पुलिस की टीम को जबरन एक कमरे में बंद कर दिया.. आरोपी की धरपकड़ के लिए गए पुलिसकर्मियों को 4 घंटे तक बंद कमरे में रहना पड़ा जबकि ये आरोपी हथियारों की खरीद फरोख्त आदि में वांछित था .

Share This Post