निजामुद्दीन, नजरुल, रियाज, रेहान और रफी ने आताताईयों के साथ किया था महादेव भक्तों पर हमला, जिन्हें शायद अपनी भावनाओं की बहुत चिंता रहती होगी

श्रावण माह के चलते आया भोले के भक्तों पर संकट। कांवड़ यात्रा के लिए पुलिस सक्रिय थी लेकिन फिर भी भोले के भक्तों की आस्था पर ठेस पहुंचाई गई, जहां कांवड़ चढ़ाने को जा रहे कांवड़ियों के साथ मारपीट हुई। वहीं, पुलिस ने समय रहते बात संभाली और आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। दरअसल, संडीला कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला किसान टोला व मीतो गांव के करीब दो सौ कांवरिया रविवार को उन्नाव के गंगाघाट से कांवर भरकर लौट रहे थे।

कासिमपुर थाना क्षेत्र में करलावां पुल के पास कांवरिया रुक कर आराम कर रहे थे। इस दौरान कुछ कांवरिये नहर में नहाने लगे थे। इसी दौरान पीछे से आए कांवरियों ने नहर में कुछ सिक्के उछाले थे। यहां पर पहले से ही बैठे दो युवकों ने सिक्के झपटने के प्रयास में नहर में छलांग लगाई थी। युवक पहले से ही नहर में नहा रहे कांवरियों के ऊपर गिर गए थे। इसको लेकर कांवरियों व युवकों में विवाद हुआ था।

इससे गुस्साए भोले के भक्तों ने युवको पर हमला कर दिया तो गांव के महिला पुरुष लाठी-डंडे व धारदार हथियार लेकर पहुंचे और कांवड़ियों पर हमला बोल दिया। वहीं, घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने उपद्रव कर रहे लोगों को खदेड़ा और मामले को शांत कराया और मामले के आरोपी निजामुद्दीन, नजरुल, रियाज, रेहान और रफी को गिरफ्तार किया।  

Share This Post

Leave a Reply