एक और मंदिर, एक और साधू.. ह्त्या का अंदाज ठीक वही, बेहद क्रूर तरीके से… निशाने पर भगवा और भगवान का घर

पिछले महीने से हिन्दू साधू-संतों, मंदिर के पुजारियों की ह्त्या का जो सिलसिला शुरू हुआ था वह अनवरत जारी है. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से साधुओं की जो हत्याएं शुरू हुईं थी उसी की पुनरावृत्ति अलीगढ़ में ही एक बार पुनः दोहराई गयी है. आपको बता दें कि अलीगढ़ में एक और मंदिर के साधू की ह्त्या बिल्कुल उसी तालिबानी अंदाज में की गयी है जैसे पहले भेई की जाती रही हैं. मंदिर के साधू के अलावा एक पति-पत्नी की भी ह्त्या की गयी है. इस तिहरे हत्याकाड से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है. आसपास के अनेक ग्रामीण मौके पर पहुंच गए.

स्थानीय लोगों ने पुलिस को तिहरे ह्त्याकांड की सूचना दी तो सूचना मिलने पर इलाका पुलिस पहुंच गई। पुलिस ने लोगों से बातचीत की लेकिन हत्यारों का पता नहीं चला सका है. पुलिस हत्यारों का पता लगाने में पुलिस जुटी हुई है. बता दें कि अलीगढ़ में रामघाट रोड पर कलाई बम्बे के निकट आश्रम में गाव सफेदापुर निवासी बाबा रूपदास महाराज की गोली मारकर हत्या कर दी गई. वे बाल ब्रह्मचारी थे और करीब 15 साल से यहा आश्रम में रह रहे थे. शनिवार की सुबह आश्रम में शव पड़ा मिला. यहा से कुछ ही दूरी पर सफेदापुर के ही योगेंद्र व उसकी पत्‍‌नी विमलेश के शव खेत में पड़े मिले. इनकी हत्या चाकू से गोद कर की गई. दोनों शव अलग-अलग थे.

परिजनों ने बताया कि रात दोनों घर से फसल रखवाली के लिए खेत के लिए निकले थे. शनिवार की सुबह लोगों को तीन हत्याओं की जानकारी मिली तो इलाके में सनसनी फैल गई. आसपास के लोग मौके पर दौड़ पड़े. तभी किसी ने पुलिस को सूचना दे दी. जानकारी मिलने पर पुलिस इलाका पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला. माना जा रहा है कि पति-पत्‍‌नी से पहले बदमाशों ने साधु की हत्या की थी. उम्मीद है कि साधु के हत्यारों को इन्होंने देख लिया होगा, इसलिए इनकी भी हत्या कर दी गई है. पुलिस ने हत्यारों को पकड़ने के लिए छानबीन तेजी से शुरू कर दी है.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *