किसानो के 5 रुपये कर्ज माफ़ करने और कभी 5 रूपये में भरपेट खाना खिलाने वाली कांग्रेस का किसानो को प्रतिदिन 17 रूपये देने की घोषणा पर ये रहा बयान

कभी अपनी सरकार में कांग्रेस का दावा था कि 5 रूपये में भरपेट भोजन किया जा सकता है . इतना ही नहीं अभी वर्तमान कांग्रेस की सरकार मध्य प्रदेश में है जहाँ पर किसानो की कर्जमाफी में अजीब सी घटनाए देखने को मिल रही हैं . यहाँ पर किसानो के 17 रूपये और यहाँ तक कि 5 रूपये तक के कर्ज माफ़ हुए हैं जिस पर किसानो ने ही पलट कर बयान दिया है कि इतने पैसे की तो वो बीडी पी जाते हैं . इतना ही नहीं , गरीबी रेखा की परिभाषा ही बदल दी थी कांग्रेस ने .. लेकिन अब जब वो केंद्र में विपक्ष में हैं तो उन्होंने मोदी सरकार के बजट पर गम्भीर आरोप लगाए हैं .

किसानो की तमाम और गम्भीर समस्याओ से जूझ रहे राजस्थान प्रदेश के मुखिया अशोक गहलोत ने आज पेश हुये लोकलुभावन बजट पर अपनी त्वरित प्रतिक्रिया देते हए कहा है कि, “प्रतिदिन किसानों को सिर्फ 17 रुपये की राशि देने का ऐलान उनका अपमान है। यह फैसला किसानों के जख्म पर नमक छिड़कने जैसा है।” हिन्दू विरोधी बयानों की झड़ी लगा देने वाले कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी अपनी बयान में कहा है कि वर्ष 2014 के चुनाव अभियान में भारतीय जनता पार्टी ने मत्स्य पालन से जुड़े अलग से एक मंत्रालय गठन करने का वादा किया था, जिसे उसने पूरा नहीं किया।

इस पर भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि किसान तो कर्ज से मर रहा है, उसका 500 रुपए महीने से क्या होगा। यह चुनाव से ठीक पहले किसानों के वोट हथियाने के लिए महज लॉलीपॉप ..गुरनाम चढूनी ने कहा कि मोदी सरकार ने अपने घोषणा पत्र में किसान को लागत पर 50 प्रतिशत मुनाफा देने की बात की थी। उसने आज तक इसे नहीं दिया। किसानों के 500 रुपए महीने की जरूरत नहीं बल्कि उसकी फसल को उचित दाम पर खरीदने की जरूरत है।

Share This Post