सामने आया कान्वेंट स्कूलों का स्याह सच..ईसाई नही बने तो भाई बहन को स्कूल से निकाला..खट्टर शासित हरियाणा में छात्रा के साथ अश्लीलता भी करता था प्रिंसिपल जैरिपोलो

बहुत ही सोच और समझ कर वैदिक गुरुकुलों को खत्म किया गया था भारत की उस भूमि से जो कभी संसार को दिखाते थे सही राह और धर्म व अधर्म में अंतर.. उसके बाद भीड़ मच गई मैकाले शिक्षा पद्धति को अपनाने की जिसमे दूर किया जाता रहा सनातनियो को उनके सच्चे मूल्यों से ..इस पर जब भी सवाल उठे तो तथाकथित सेकुलर समाज के कुछ बड़े नामों ने इसको धर्मनिरपेक्षता पर हमला और शिक्षा के भगवाकरण का आरोप लगा दिया जिस पर उनकी सोच के तमाम लोग एकजुट हो जाया करते हैं ..

लेकिन अब जो हुआ उस से अचानक ही ध्वस्त हो गए कथित सेकुलरिज़्म के वो सभी नियम कायदे कानून और छा गयी है खामोशी ..ये घटना है भारतीय जनता पार्टी शासित हरियाणा की जहां पर महिला थाना पुलिस ने ब¨ठडा रोड स्थित एक निजी स्कूल के प्रधानाचार्य समेत चार लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया है। केस स्कूल में पढ़ने वाली छात्रा की शिकायत पर दर्ज किया गया है। छात्रा का भाई भी इसी स्कूल में पढ़ता है। ये साफ साफ   साजिश है हिन्दुओ के ईसाईकरण  की जिसके शिकार बने है मासूम..

पुलिस को दिए बयान में छात्रा ने कहा कि वे ¨हिन्दू धर्म से संबंध रखते हैं। स्कूल के ईसाई धर्म से संबंध होने के कारण आरोपित उन पर दबाव बनाते थे कि वे ईसाई बन जाएं। हमनें आस्था नहीं दिखाई तो धर्म के नाम पर बार-बार बेइज्जत किया जाने लगा। इस मामले को स्कूल के उच्च अधिकारियों के पास पहुंचाया तो जान से मारने की धमकी दी।

आरोप है कि छात्रा को अश्लील बातें बोलकर उसे नीचा दिखाने का प्रयास किया गया। आरोपितों ने धमकी दी कि यदि ईसाई नहीं बनी तो उसके साथ ऐसा कार्य करेंगे कि वह किसी को सूरत दिखाने के लायक नहीं रहेगी। 25 जनवरी को छात्रा तथा उसके भाई को स्कूल से निकाल दिया गया। छात्रा की शिकायत पर सेंट जोसफ हाई स्कूल के प्रधानाचार्य जैरीपोलो, डोमिनिक,  ऐन्टोनियो व विनीता के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इन धाराओं के तहत दर्ज हुआ केस

 

Share This Post