बुलाया पर्यावरण के लिए लेकिन बताया राहुल गांधी के लिए.. पर जैसे ही नारे लगाए मोदी के विरोध में, खड़ा हो गया हंगामा

हिंदुस्तान के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी जी को लोकप्रियता जगजाहिर है, खासकर युवाओं के बीच में प्रधानमंत्री जी बेहद लोकप्रिय हैं. देश की जनता द्वारा लगातार नकारी जा कांग्रेस पार्टी को उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी बुराई करना कांग्रेस पार्टी की किरकिरी करा गया.

मामला मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले का है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की बुराई करना कांग्रेस पार्टी को महंगी पड़ गई. कांग्रेस पार्टी के एक पूर्व विधायक ने जिन एनसीसी कैडेट्स को राहुल के जन्मदिन पर सद्भावना दौड़ के लिए बुलाया, उन्होंने जब प्रधानमंत्री मोदी जी के खिलाफ बोलना शुरू किया तो कैडेट्स खफा हो गए. कार्यक्रम में दौड़ने के बजाय कैडेट्स वापस अपनी-अपनी बसों में बैठ गए तथा साफ कर दिया कि अब वह इस कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेंगे. कैमरे के सामने किरकिरी हुई तो कांग्रेसी उन्हें मनाने पहुंचे, लेकिन कोई दौड़ में शामिल नहीं हुआ. एनसीसी कैडेट्स ने कहा कि उन्हें राजनैतिक कार्यक्रम में बुलाया गया और उनके सामने ही प्रधानमंत्री जी कि बुराई जा रही है तो ऐसे कार्यक्रम में वह कतई शामिल नहीं हो सकते है.

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के जबलपुर में कांग्रेस ने राहुल गांधी के जन्मदिन पर मंगलवार को ‘रन फॉर आरजी’ नाम से दौड़ का आयोजन किया. मालवीय चौक से दौड़ होनी थी. सुबह नौ बजे का वक्त तय हुआ. कांग्रेस ने भीड़ जुटाने के लिए दो एमपी महिला बटॉलियन को भी इसमें शामिल कर लिया. बसों में भरकर एनसीसी कैडेट्स आए. दौड़ शुरू होने वाली ही थी, इस दौरान पूर्व विधायक लखन घनघोरिया मीडिया से मुखातिब हो कैमरे के सामने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों को लेकर कोसने लगे तथा मोदी जी के खिलाफ बोलना शुरू कर दिया. इसे सुनकर कैडेट्स ने कार्यक्रम से बायकाट करने का फैसला लिया. चर्चा है कि प्रधानमंत्री के खिलाफ बोलने से एनसीसी कैडेट्स नाराज हुई. मीडिया कर्मियों के सामने ही कार्यक्रम छोड़कर जाने से कांग्रेस नेता परेशान हो गए. फौरन उन्हें मनाने के लिए नेता पहुंचे, उनसे वापस दौड़ में हिस्सा लेने का निवेदन किया, लेकिन कोई नहीं माना.
आपको बता दें कि श्रीराम इंजीनियरिंग कॉलेज में दो एमपी महिला बटालियन का कैंप है। इसमें करीब 500 एनसीसी कैडेट्स हैं। एनसीसी के अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि उन्हें कांग्रेस नेताओं ने फोन पर एनसीसी कैडेट्स को कार्यक्रम में भेजने का आग्रह किया था। इसे बिना जांच पड़ताल अधिकारियों ने मान लिया। कांग्रेस नेताओं ने बस भेजी, जिसमें बैठकर कैंप से कैडेट्स मालवीय चौक पहुंचीं। अधिकारी के अनुसार नगर निगम की पर्यावरण दौड़ का आयोजन होने की जानकारी उन्हें दी गई, लेकिन कार्यक्रम में पहुंचने के बाद जैसे ही राजनैतिक कार्यक्रम समझ में आया तथा प्रधानमंत्री के खिलाफ बोलना शुरू किया गया तो अफसरों ने फौरन कैडेट्स को वापस कैंप में चलने का फरमान दिया, इसके बाद सारे कैडेट्स वापस लौट गए तथा अनुरोध करने के बाद भी कार्यक्रम मेंभाग नहीं लिया, जिससे कांग्रेस कि काफी किरकिरी हुई.

Share This Post

Leave a Reply