बहादुर शाह जफ़र के वंशज ने ओढ़ लिया भगवा और अयोध्या पहुँच कर लगाए जय श्री राम के नारे ..

कुछ हराम हराम चीखते रहे लेकिन जो असली था वो जय श्री राम बोल कर भगवा धारण कर किया और स्वीकार किया कि अयोध्या प्रभु राम की ही है जहां बनना ही चाहिए प्रभु का भव्य मंदिर … ये भगवा धारण कर के जय श्री राम बोल रहे कोई और नहीं बल्कि बहादुर शाह जफ़र के वंशज है जिन्हें अभी भी प्रिंस याकूब कहा जाता है और मुगल सल्तनत के वारिस भी हैं ..

इन्होंने नकली चेहरे वाले ओवैसी जैसे गद्दारों की जुबान पर ताले जैसे लगा देने वाली बातें कहीं लेकिन अफसोस कि चिल्लाने की बीमारी से ग्रसित ओवैसी खामोश होगा इसमे सबको शक है .. अंतिम मुगल शासक बहादुर शाह जफर के छठी पीढ़ी होने का दावा किया है प्रिंस याकूब ने और बोला है जय श्री राम .रामराज्य यात्रामंच पर संतो ने किया स्वागत, क्या मंदिर निर्माण को मिलेगा नया फार्मूला

कारसेवकपुरम, बादशाहों की भेषभूषा में मौजूद शख्स मंच से जयश्रीराम का नारा लगाया तो हर किसी का ध्यान उसकी ओर गया। पता चला कि यह प्रिंस याकूब है जिन्होने बहादुर शाह जफर की छठवीं पीढ़ी होने का दावा किया है। मंच पर प्रिंस याकूब का संतो ने माला पहनाकर स्वागत भी किया।

प्रिंस याकूब ने कहा कि तीन महीने पहले रामलला का दर्शन किया था। उन्होंने कहा कि उनके पुरखों ने कहा था कि संतो व महंतो का ऐहतराम करो। मंदिरों की रक्षा करो। जहां रामलला विराजमान है वहां मंदिर बनना चाहिए। इस्लाम कहता है कि जिस देश में रहते हो वहां के प्रति वफादार रहो। विश्वहिन्दु परिषद के साथ मिलकर काम किया जायेगा। यहां जब इस्लाम आया था तो मोहब्बत का पैगाम लेकर आया था। हमे मोहब्बत को कायम रखना चाहिए।

Share This Post

Leave a Reply