अलवर मामले में भाजपा हुई आक्रामक.. राहुल गांधी की राजनीति को गिद्ध की राजनीति बताया..

अलवर मामले को लेकर देश की राजनीति गरमाई हुई है तथा सम्पूर्ण विपक्ष इस घटना को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर है. अलवर मामले जिस तरह से राजनीति की जा रही है तथा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा व मोदी सरकार पर आरोप लगाये हैं, उसे लेकर अब भाजपा राहुल गांधी पर हमलावर हो गयी है. भाजपा का कहना है कि राहुल गांधी अलवर मामले को लेकर गिद्ध वाली राजनीति पर कर रहे हैं जो किसी की लाश पर भी राजनैतिक रोटियां सेंकने से बाज नहीं आ रहे हैं. 

ज्ञात हो कि अलवर मामले को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने’मोदी का क्रूर न्यू इंडिया’ बताया था .राहुल गांधी अलवर मामले को   क्रूर न्यू इंडिया बताने पर बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष पर बड़ा हमला किया है. रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने जहां इसे लेकर राहुल गांधी को नफरत का सौदागर बताया है वहीं स्मृति ईरानी ने इसे गिद्ध राजनीति करार दिया है. पीयूष गोयल ने ट्वीट किया, अब अपराध होता है तो हर्ष के लिए बीच में मत कूदिए. बहुत हो गया. आप नफरत के सौदागर हैं. चुनावी फायदे के लिए आप समाज को बांटने की हर संभव कोशिश करते हैं. घड़ियाली आंसू बहाते हैं. इसके साथ ही स्मृति ईरानी ने भी राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा है और उनके बयान को गिद्ध राजनीति करार दिया है. उन्होंने कहा, राहुल चुनावी फायदा लेने का एक मौका नहीं छोड़ते. राहुल की राजनीति गिद्ध राजनीति है.स्मृति ने ट्वीट किया ‘राहुल गांधी के परिवार ने 1984, भागलपुर समेत कई अन्य दंगों के जरिए देश में नफरत की आग फैलाई। ये शर्मनाक है कि कांग्रेस अब इस तरह की नीतियां अपना रही है.

आपको बता दें कि अलवर लिंचिंग पर हमला करते हुए राहुल गांधी ने मोदी पर निशाना साधा था. राहुल ने ट्वीट में लिखा कि जब मौका-ए-वारदात से अस्पताल सिर्फ 6 किमी. की दूरी पर ही था तो पुलिस को रकबर को वहां ले जाने में 3 घंटे क्यों लगे. राहुल ने ट्वीट कर कहा, ”अलवर में पुलिसकर्मियों को घायल रकबर खान (अकबर खान) को छह किलोमीटर दूर अस्पताल ले जाने में तीन घंटे लग गए, क्यों? उन्होंने रास्ते में चाय भी पी. ये मोदी का क्रूर न्यू इंडिया है जहां नफरत ने मानवता की जगह ले ली है और लोग कुचले जा रहे हैं और मरने के लिए छोड़ दिये जा रहे हैं.”

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *