दुश्मन की औकात नहीं ये अपनों की गद्दारी है.. पुलवामा के गुनाहगार को अभिनंदन खोज रहे थे पाकिस्तान में लेकिन एक तो छिपा निकला यहाँ

पिछले काफी समय से एक गाना वायरल हो रहा है कि दुश्मन की औकात नहीं ये अपनों की गद्दारी है … ये सब कुछ अब सही साबित हो रहा है. पुलवामा की जांच में जैसे जैसे सुरक्षा एजेंसियां आगे बढ़ रही हैं तो वैसे वैसे इस पूरे आतंकी हमले के तार सिर्फ सीमा पार से ही नहीं बल्कि सीमा के अन्दर से ही जुड़ते नजर आ रहे हैं . हैरानी की बात ये है कि ये कनेक्शन सिर्फ पाकिस्तान और कश्मीर भर का ही नहीं है दिख रहा बल्कि इसमें अब और भी प्रदेश शामिल  होते दिख रहे हैं .

ज्ञात हो कि सुदर्शन न्यूज पाकिस्तान पर कड़ी कार्यवाही के साथ साथ देश के अन्दर छिपे गद्दारों पर भी कार्यवाही मांग रहा है और अब इस गिरफ्तारी के बाद सुदर्शन की आवाज को बल मिला है . ये वो समय था जब भारत के जांबाज़ हथियार और विमान ले कर पुलवामा के गुनाहगारों को पाकिस्तान में तलाश रहे थे लेकिन ठीक उसी समय एक दोषी भारत की सीमाओं के अन्दर था जिसको अब जांच एजेंसियों ने पकड़ लिया है और विस्तृत पूछताछ के लिए ले गये हैं . .

ताजा जानकारी के अनुसार पुलवामा हमले की साजिश के तार बिहार से जुड़ते नजर आ रहे हैं। खुफिया इनपुट के आधार पर पुलिस ने बिहार के बांका क्षेत्र से एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है। संदिग्ध आतंकी के घर में पांच सौ किलो आरडीएक्स छिपाए जाने का इनपुट भी खुफिया विभाग को मिला है। इस बात का जिक्र खुफिया विभाग के एक पत्र से हुआ है। हिरासत में लिए गए संदिग्ध आतंकी का नाम मो. रेहान बताया जा रहा है जिसका जैश-ए-मोहम्मद नाम के आतंकवादी संगठन से भी संबंध होने की आशंका बताई जा रही है।

दरअसल बांका पुलिस को भी इस बात की सूचना मिली थी कि संदिग्ध आतंकी जिले में मौजूद है जिसके बाद खुफिया इनपुट के आधार पर पुलिस ने उसे हिरासत में लिया और पूछताछ के लिए एसडीपीओ कार्यालय लेते आई जहां उससे बांका एसपी स्वप्ना जी मेश्राम सहित तमाम पुलिस पदाधिकारी पूछताछ कर रहे हैं। इस गिरफ्तारी के बाद देश के अन्दर ऐसे और भी गद्दारों के चेहरे बेनकाब होने की संभावना जताई जा रही है .

Share This Post