जिन दुर्दांत अपराधियों को सीधी जंग में मार गिराया था अलीगढ़ पुलिस ने अब उसी से जुड़ा कनेक्शन JNU का. नाम आ रहा आतंकियों के पैरोकार उमर खालिद का

अब वो तमाम तथ्य निकल कर सामने आ रहे हैं जिसके चलते अलीगढ़ की पुलिस को सवालों के घेरे में लेने की कोशिश की जा रही थी . उन तमाम निराधार आरोपों की जड़ भी मिलने लगी है जिसके चलते शौर्य को कलंकित करने के प्रयास किये गये थे . अलीगढ मुठभेड़ में साधुओ के हत्यारों को पहले तो पुलिस ने खोज निकाला फिर उसके बाद उन्हें आमने सामने की लड़ाई में मार गिराया . लेकिन उसके बाद शुरू हुई थी एक बड़ी राजनीति जिसमे सबसे आगे खड़ी मिली वो कांग्रेस जो आये दिन कानून व्यवस्था के नाम पर सरकार को घेर रही थी . लेकिन अलीगढ़ पुलिस अटल रही .

विदित हो कि राजनातिक बन जाने के बाद अतिचर्चित हो चुके अलीगढ मुठभेड़ को लेकर हुए खड़े हो रहे नित नये विवाद ने शुक्रवार को अचानक ही एक नया मोड़ ले लिया. अभी पिछले हफ्ते हुई इस आमने सामने की मुठभेड़ में दो संदिग्ध अपराधी- नौशाद और मुस्तकीम मारे गए थे. बताया जा रहा है कि इन अपरधियो ने साधुओ की हत्या के साथ साथ राजस्थान के वर्तमान राज्यपाल व् उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री कल्याण सिंह के रिश्तेदार की हत्या की थी .. सरकार की तरफ से इन हत्यारों को पकड़ने का बहुत दबाव था जिसको आख़िरकार अलीगढ पुलिस ने शाही अंदाज़ में पूरा किया .

अब इसी मामले में पुलिस ने खुद को मानवाधिकार कार्यकर्ताओं कह कर आतंकियों और अपराधियों की खुली पैरवी करने वाले एक समूह के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया है. इनमें अभी जिन्ना के लिए चर्चा में रही अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) और भारत विरोधी नारों के लिए खबरों में रही जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के कुछ तथाकथित छात्र भी शामिल हैं. इनपर आरोप है कि उन्होंने मुस्तकीम की मां और दादी का अपहरण किया था.  थाना प्रभारी परवेश राणा ने बताया कि मामला गुरुवार को अतरौली थाने में दर्ज किया गया. तहरीर बजरंग दल के सचिव राम कुमार आर्य और मुस्तकीम की पत्नी हिना की ओर से दी गई थी. कार्यकर्ताओं के समूह में जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद भी शामिल हैं लेकिन फिलहाल शिकायत में उनको नामजद नहीं किया गया है.  राणा ने बताया कि शिकायत में “यूनाइटेड अगेन्स्ट हेट” फोरम के कार्यकर्ताओं के नाम हैं जिसमें एएमयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष मसकूर उस्मानी और फैजुल हसन भी शामिल हैं.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *