“हम चाहते हैं पूरी दुनिया में इस्लाम की हुकूमत”… दिल्ली से गिरफ्तार हुए आतंकी का बयान

मेरा सपना तथा लक्ष्य दुनियाभर में इस्लाम की हुकूमत स्थापित करना है. पूरा दुनिया में इस्लाम का शासन हो तथा हर कोई इस्लाम को मानने वाला हो, मैं इसी कार्य को अंजाम देने के लिए दिल्ली आया था. ये बयान उस आतंकी के हैं जिसे हाल ही में दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने दिल्ली से गिरफ्तार किया है. यहाँ ये जानना जरूरी है कि गिरफ्तार आतंकी कह रहा है कि वह पूरी इस्लाम का राज कायम करना चाहता है तथा इसी के लिए वह दिल्ली आया था लेकिन इससे पहले वह आपने नापाक इरादों में सफल हो पाता, दिल्ली पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.. लेकिन फिर भी उस थ्योरी को बार-बार दोहराया जाएगा कि आतंक का कोई धर्म नहीं होता है तथा आतंक को धर्म से नहीं जोड़ना चाहिये.

दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा द्वारा गिरफ्तार संदिग्ध आतंकवादियों में शामिल जमशेद जहूर पॉल ने कहा, ”हम पूरे विश्व में कट्टरपंथ का प्रसार करना चाहते हैं.”  आतंकी जहूर पॉल को परवेज राशिद लोन उर्फ शाहिद (24) के साथ गुरुवार रात लाल किला के निकट जामा मस्जिद बस स्टैंड से गिरफ्तार किया गया था. जम्मू-कश्मीर इस्लामिक स्टेट के साथ कथित संबंध को लेकर इन दोनों को गिरफ्तार किया गया था. जांचकर्ताओं ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले के रहने वाले दोनों संदिग्ध आतंकवादी अत्यधिक कट्टर हैं और उनके पास से जब्त किये गए फोन में वीडियो हैं. उन्होंने कहा कि कुछ नोटबुक भी जब्त किये गए हैं, जिनकी पुलिस जांच कर रही है. पुलिस उपायुक्त (विशेष शाखा) प्रमोद सिंह कुशवाहा ने बताया कि लोन ने उत्तर प्रदेश के अमरोहा से 2016 में सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक किया था और राज्य के गजरौला से एमटेक कर रहा था. डीसीपी ने बताया कि सितंबर 2016 में उसका भाई फिरदौस हिज्बुल मुजाहिदीन से जुड़ा और उसके बाद आईएसजेके में शामिल हो गया था. उन्होंने बताया कि इस साल जनवरी में जम्मू-कश्मीर के शोपियां में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में फिरदौस मारा गया था.

पुलिस ने बताया कि फिरदौस पर तीन लाख रुपये का इनाम घोषित था. उन्होंने बताया कि छोटे भाई के मारे जाने से बुरी तरह प्रभावित होकर लोन आईएसजेके से जुड़ गया. पॉल जम्मू-कश्मीर में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा के अंतिम वर्ष का छात्र है.  पुलिस ने बताया कि अप्रैल, 2017 में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकी सबजर भट्ट को दफनाए जाने के समय पॉल की मुलाकात तराल के रहने वाले शौकत से हुई थी. शौकत का रिश्तेदार सैय्यद ओवैसी शफी (जो बाद में एक मुठभेड़ में मारा गया) उस समय एक सक्रिय आतंकी था. शफी ने ही पॉल की पहचान आईएसजेके के वर्तमान प्रमुख आसिफ उर्फ उमर इब्न नजीर से करायी थी. अधिकारी ने बताया कि पॉल पिछले आठ माह से इन्क्रिप्टेड मोबाइल मैसेजिंग ऐप के जरिये आसिफ से नियमित संपर्क में था. पॉल और लोन इस वर्ष आईएसजेके से जुड़े थे और उत्तर प्रदेश से दिल्ली में हथियारों की तस्करी में शामिल थे. पुलिसिया पूंछताछ में ही आतंकी जहूर पॉल ने कहा है कि वह पूरी दुनिया में इस्लाम की हुकूमत कायम करने के लिए काम कर रहा है.

Share This Post

Leave a Reply