उधड़नी शुरू हुई आसाराम बापू मामले में झूठ की तमाम परतें…शिष्या शिल्पी मामले में आया ये फैसला कालिख के समान है कई उन चेहरों पर जिन्होंने रचा था ये षड्यंत्र

नाबालिग के साथ रेप के आरोप में उम्रकैद की सजा पा चुके आसाराम बापू के मामले की झूठी परतें उधड़ना शुरू हो गयी हैं जब सहआरोपी बनाई गयी उनकी शिष्या शिल्पी उर्फ़ संचिता को शनिवार को राजस्थान हाईकोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए उनकी सजा को स्थगित कर दिया है.  न्यायाधीश विजय विश्नोई की अदालत ने शिल्पी की सजा स्थगित करते हुए उन्हें जमानत दे दी है. बता दें कि शिल्‍पी आसाराम के छिंदवाड़ा आश्रम में वार्डन थी  तथा मामले में ये कहते हुए उन्हें आरोपी बनाया गया था कि वह बलात्कार की साजिश में शामिल थी. इसके बाद कोर्ट ने आशाराम बापू को उम्रकैद तथा शिल्पी व शरद को 20-20 साल की सजा सुनाई थी वहीं शिवा को संदेह का लाभ देते हुए कोर्ट बरी कर दिया था.

शिल्पी की जमानत के बाद आसाराम बापू को जमानत मिलने की संभावनाएं भी प्रबल हो गयी है. शिल्पी की सजा स्थगित होने के बाद आसाराम के शिष्यों का कहना है कि इस फैसले से उन सभी विदेशी तथा विधर्मी ताकतों के नापाक मंसूबों पर पानी फिरा है जिन्होंने इस मामले में  एक विशेष साजिश तथा षड्यंत्र को अंजाम दिया. सुदर्शन न्यूज़ पहले दिन से ही ये कहता रहा है कि आसाराम बापू मामले में सनातन विरोधी तथा विदेशी ताकतें संलिप्त हैं जो इस बहाने अपने नापाक मंसूबों को अंजाम तक पहुंचाना चाहती हैं. आसाराम के भक्तों का कहना है कि इन विधर्मी ताकतों  को सफलता भी मिली जब आसाराम बापू तथा उनके सहयोगियों को सजा सुनाई गयी लेकिन आज शिल्पी की  स्थगित होने के बाद उनके अरमानों पर पानी फिरता नजर आ रहा है क्योंकि इसके बाद अब आसाराम बापू के जेल से बाहर आने की उम्मीदें भी बढ़ गईं हैं.

आसाराम बापू के भक्तों का मानना है कि शिल्पी को राहत मिलने के बाद अब बापू को भी आगे राहत मिल मिलेगी. उनका कहना है कि शिल्पी को जमानत मिलने और सजा निलंबन से अब बापू की जमानत को लेकर कवायद शुरू होगी. बता दें कि इससे पहले आसाराम बापू ने जोधपुर जेल से ऑडियो वायरल किया था, जिसमे उन्होंने कहा था कि पहले शिल्पी बेटा को बाहर निकालूंगा. इसके बाद शरद को ओर फिर मैं बाहर आऊंगा. आसाराम ने जोधपुर जेल से अपने समर्थकों को मैसेज दिया था. आसाराम बापू के भक्तों की मानें तो ये ऑडियो की बात आज सच  साबित हुई है.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *