नीतीश की पार्टी के नेता ने प्रभु श्रीराम के मंदिर पर दिया ऐसा बयान कि बजरंग दल जैसे संगठन तक चौंक गये

श्रीराम मंदिर के मुद्ददे पर अक्सर चुप्पी साध लेने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता ने एक ऐसा बयान दिया है, जिससे राजनैतिक सरगर्मियां तेज हो गयी हैं तथा बजरंग दल व् विश्व हिन्दू परिषद् जैसे संगठन तक चौंक गये हैं. आपको बता दें कि जनता यूनाइटेड के महासचिव ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण का समर्थन किया है. पार्टी महासचिव पवन वर्मा ने चौंकाने वाला बयान देते हुए कहा है कि श्रीराम हिन्दुओं के आराध्य हैं और उनका जन्म अयोध्या में ही हुआ था तो उनका मंदिर अयोध्या में ही बनना चाहिए.

नीती कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय महासचिव पवन वर्मा ने पूरी साफगोई से कहा कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण होना ही चाहिए. पवन वर्मा ने अपनी भावना को व्यक्त करने के लिए दो ट्वीट भी किए हैं. उन्होंने कहा कि मैं मंदिर से विरोध करने वालों से आग्रह करता हूं कि उनको इससे सहमत होना चाहिए. राम मंदिर का निर्माण राष्ट्रीय हित के साथ-साथ देश के लाखों-करोड़ों हिंदुओं के भी हित में है. मेरा मानना है कि इस मामले का सुप्रीम कोर्ट के फैसले या आपसी बातचीत से हल निकाला जाना चाहिए. लेकिन एक बात तय है कि अयोध्या में मंदिर हर हाल में बनना चाहिए.

पवन वर्मा के अनुसार, अयोध्या में हमें विवादों से बाहर निकलने की जरूरत है. यह सही है कि मंदिर का निर्माण जबरदस्ती नहीं होना चाहिए. आम सहमति से मंदिर का निर्माण होता है तो जदयू उसका स्वागत करेगा. पवन वर्मा ने कहा कि मैं हिंदू हूँ तथा एक हिंदू होने के नाते मेरी यही इच्छा है कि मंदिर बना चाहिए. उन्होंने कहा कि रामलला अयोध्या के हैं तो मंदिर कहीं और थोड़े ही बनेगा बल्कि मंदिर तो वहीं बनेगा. उन्होंने कहा कि भगवान राम दुनिया के सबसे पुराने धर्मों में से एक के सबसे सम्मानित देवताओं में से है. फिर अयोध्या में राम मंदिर क्यों नहीं बनाया जाना चाहिए? वहां मंदिर का निर्माण देश की संस्कृति और शिष्टाचार के उच्चतम मूल्यों के महत्व के बारे में याद दिलाएगा.

Share This Post

Leave a Reply