कनाडा की जैकलिन को दीजिये शुभकामनाएं जिन्होंने हिन्दू संस्कृति के साथ चुना हिन्दू दूल्हा भी और अब हैं विनीत की जीवन संगिनी

विदेशी विचारधारा की अंधी दौड़ में भले ही कुछ देशी लोग अपने मूल को त्याग कर उधर भाग रहे हों लेकिन वही दुनिया के अन्य देशो ने हिन्दू संस्कृति और हिन्दू रीतिरिवाजों को संसार में सर्वोत्तम पाया है और उसके लिए अपना सब कुछ त्याग कर निकल पड़ी उस जीवनशैली को जीने के लिए जो कभी भारत को विश्वगुरु के रूप में स्थापित की थी. इस बार फिर से कनाडा की जैकलिन ने चुनी है सत्य सनातन की राह .

विदित हो कि उत्तर प्रदेश के जनपद आगरा के जिला मुख्यालय पर सोमवार को कनाडा से आई विदेशी लड़की और भारत का विनीत सदा सदा के लिए एक दूसरे के हो गये . इन दोनों के चेहरे पर ख़ुशी थी एक दूसरे के होने के बाद और दोनों ने हिन्दू रीति रिवाज़ से अपने विवाह की परम्परा को निभाया . इतना ही नहीं, इस शादी के बाद विदेशी युवती ने ‘लकड़ी की काठी’ और ‘नानी तेरी मोरनी को मोर ले गई’ जैसे गाने सुनाए। बता दें, शादी देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई।

कनाडा से भारत और भारत में सत्य सनातन की शरण में आई लड़की और उसके दूल्हे के साथ वहां पर मौजूद तमाम लोगों ने सेल्फी भी ली। आगरा के दयालबाग निवासी विनीत वासंदानी बेंगलुरु में श्री रविशंकर के योग आश्रम में योगा टीचर हैं। वहीं आश्रम में विनीत की मुलाकात कनाडा निवासी जैकलिन से हुई।जैकलीन भी यहां योगा टीचर हैं, दोनों के बीच यहां प्यार परवान चढ़ा। अगस्त 2018 में दोनों ने शादी के बंधन में बंधने का विचार बना लिया। शादी को कानूनी मान्यता देने के लिए विनीत आगरा जिला मुख्यालय पहुंचे। यहां एडीएम एफआर राकेश मालपानी की कोर्ट में दोनों सात जन्मों के बंधन में बंध गए।

Share This Post