नोटबंदी का लाभ गिनाया IG विवेकानंद जी ने… बोले – कंगाल हो गए हैं नक्सली

भारत को देश के बाहरी दुश्मनों के साथ-साथ आतंरिक दुश्मनों से भी लड़ना पड़ रहा है.आतंरिक समस्याओं में एक बड़ी समस्या है नक्सलवाद.नक्सली प्रभावित राज्य विकास भी नहीं कर पाते और अनेक क्षेत्रों में पिछड़े रहते हैं.छत्तीसगढ़ जैसे राज्य नक्सली समस्या से आज भी ग्रस्त हैं.नक्सली प्रभावित इन राज्यों में बुनियादी सुविधाएं जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली आदि परेशानियों का सामना भी यहां के निवासियों को करना पड़ता है.

ऐसे राज्यों में एजुकेशन व्यवस्था बुरी तरह से बिखरी हुई है.अगर बच्चे स्कूल चले भी जाएं तो नक्सलियों के डर के कारण शिक्षक स्कूलों में पढ़ाने नहीं आते.‍जिन स्कूलों का प्रयोग सैनिक नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई करने में नहीं कर रहे हैं उन पर हमला करना अंतरराष्ट्रीय मानवतावादी क़ानून और भारतीय आपराधिक क़ानून दोनों का उल्लंघन है.नोटबंदी के बाद करोड़ों रुपये नक्सलियों के जब्त किए गए हैं.

बैंक भी संदिग्ध और बड़े लेनदेन पर पुलिस को अवगत करवाती है.आपको बता दे की बस्तर के आईजी विवेकानंद सिन्हा ने कहा है की नक्सल उन्मूलन के लिए चलाए गए अभियान प्रहार काफी सफल रहे है. बस्तर आईजी विवेकानंद सिन्हा ने बुधवार को पत्रकारों से होमगार्ड सेनानी कैंप में चर्चा के दौरान कहा, “हमारा संपर्क बैंकों से लगातार बना रहता है.जहां बड़े लेनदेन पर पुलिस नजर रखती है.”उन्होंने कहा कि नक्सली बंद के दौरान नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में यातायात प्रभावित नहीं हुआ.

नक्सली घटनाओं में दो घटनाओं को छोड़कर नक्सली कोई बड़ी वारदात को अंजाम नहीं दे सके.उन्होंने कहा कि बस्तर क्षेत्र में विकास कार्यो को गति देने के लिए सड़कों के निर्माण के लिए आवश्यक सुरक्षा उपलब्ध कराई जा रही है.इससे जगरगुंडा के दो तरफ से यातायात का मार्ग खुल जाएगा.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *