नन से बलात्कार की गवाही देने वाले का क़त्ल.. आरोप लगा था ईसाइयों के बड़े बिशप पर.. खामोश है मीडिया व तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग

केरल की नन के साथ कई बार बलात्कार के आरोपी ईसाई बिशप फ्रेंक्लो मलक्क्ल के खिलाफ गवाही देने वाले ईसाई फादर कुरियाकोस की संदेहास्पद मौत हो गयी है. बलात्कारी बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ बयान देने वाले ईसाई फादर कुरियाकोस का शव संदिग्ध परिस्थितियों में होशियारपुर के दसूहा में बरामद हुआ है. वह स्कूल के परिसर में पिछले पंद्रह दिन से रह रहे थे. यहां उन्होंने सेंट पाल कान्वेंट स्कूल दसूहा में बतौर फादर कार्यभार संभाला था.

जिस कुरियाकोस के के बयान ने बलात्कारी बिशप की पोल खोली, उस बिशप के जमानत पर बाहर आते ही कुरियाकोस की संदिग्ध परिस्थियों में सवाल जरूर खड़े करती है. आश्चर्य की बात ये है कि बलात्कारी बिशप के ह्त्या की इस तरह की मौत के बाद नारी स्वाभिमान के तथाकथित ठेकेदार तथा बुद्धिजीवी इस पर मौन साधे हुए है. कुरियाकोस के परिजनों मौत को संदिग्ध बताते हुए इसकी जांच की मांग की है तथा इस संबंध में ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. वहीं, बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर आरोप लगाने वाले दुष्कर्म पीड़िता नन के भाई ने इसे सुनियोजित हत्या करार दिया है.

क्रिश्चियन फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष लारेंस चौधरी ने कहा कि फादर कुरियाकोस पूरी तरह से स्वस्थ थे. उन्हें किसी प्रकार की कोई बीमारी भी नहीं थी. वे नन दुष्कर्म के मामले में प्रमुख गवाह थे. मामले के बिशप फ्रैंको मुलक्कल को हाल ही में जमानत मिली थी. उसके बाद से फादर कुरियाकोस तनाव में थे. उनकी मौत के पीछे एक यह भी कारण हो सकता है. बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर आरोप लगाने वाले दुष्कर्म पीड़िता नन के भाई का कहना है कि यह एक योजनाबद्ध हत्या है. फादर कुरीकोस ने कहा था कि उनका जीवन खतरे में था. उनकी मौत की जांच की जानी चाहिए, साथ ही सभी गवाहों को पुलिस सुरक्षा दी जानी चाहिए. ये भी सामने आया है कि नन दुष्कर्म मामले के बाद कुरियाकोस को लगातार धमकियां मिल रही थी तथा हाल ही में उनकी कार पर हमला भी हुआ था. इस कारण मौत को संदिग्ध माना जा रहा है.

Share This Post

Leave a Reply