असली रंग दिखाने लगे बौद्धों के हत्यारे रोहिंग्या… मेट्रो ट्रैक पर चढ़कर चोरी किए लाखों के बिजली के तार.. बरकरार है धर्मनिरपेक्षता

म्यांमार में बौद्धों तथा हिन्दुओं का क़त्ल कर हिंदुस्तान में घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या उन्मादी अपना वास्तविक रंग दिखाने लगे हैं. हिंदुस्तान की सुरक्षा एजेंसिया रोहिंग्या आक्रान्ताओं को लेकर पहले ही ये आशंकाएं जाहिर कर चुकी हैं कि रोहिंग्या हिंदुस्तान की an सिर्फ आन्तरिक बल्कि बाहरी सुरक्षा के लिए भी खतरा है तथा अब ये आशंकाएं सही साबित हो रही हैं.

खबर के मुताबिक़, बॉटेनिकल और ओखला बर्ड सेंचुरी मेट्रो स्टेशन के बीच मेट्रो ट्रैक से बिजली के तार चोरी करने वाले 6 रोहिंग्याओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. ये रोहिंग्या ट्रैक पर रस्सी के सहारे चढ़े थे और कॉपर के तार काट कर रस्सी पकड़ कर नीचे आ गए थे. जिस तरह से तथाकथित सेक्यूलर राजेनेताओं तथा बुद्धिजीवियों ने रोहिंग्याओं का समर्थन किया, उससे रोहिंग्याओं के हौसले बढ़ गये तथा अब वह अपना वास्तविक रंग दिखाने लगे हैं. ये रोहिंग्या ट्रैक पर रस्सी के सहारे चढ़े थे और कॉपर के तार काट कर रस्सी पकड़ कर नीचे आ गए थे.

खबर के मुताबिक़, रोहिंग्याओं के पास से शरणार्थी कार्ड भी बरामद हुआ है. नॉएडा की कोतवाली सेक्टर 39 पुलिस ने आरोपितों से चोरी किए गए कॉपर के तार, एक स्विफ्ट कार और स्कूटी बरामद की है. बरामद तार की कीमत करीब 10 लाख रुपये है. सभी आरोपितों को सोमवार को कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है. बता दें कि 30 जनवरी की रात चोरों ने बॉटेनिकल और ओखला बर्ड सेंचुरी मेट्रो स्टेशन के मजेंटा लाइन-8 से कॉपर के तार चोरी कर ली थी. दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के सीनियर मैनेजर बिदय पार्टीदार ने कोतवाली सेक्टर 39 में चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. उन्होंने शिकायत दी थी कि मजेंटा लाइन-8 से करीब 45 मीटर कॉपर के कीमती तार चोरी किए गए हैं.

कोतवाली प्रभारी इंस्पेक्टर उदय प्रताप सिंह ने बताया कि सोमवार सुबह पुलिस टीम अमेठी ग्लोबल स्कूल सेक्टर 44 में चेकिंग कर रही थी. इसी दौरान आरोपितों को स्विफ्ट कार और स्कूटी के साथ गिरफ्तार किया गया है. आरोपित असलम, असिफ उर्फ रहमान, मंजूर आलम, नाजीर, लाला उर्फ अलीहसन दिल्ली के रहने वाले हैं, जबकि जुबैर मलिक मवाना मेरठ का रहने वाला है। जुबैर ही गैंग का लीडर है. इनसे मेट्रो ट्रैक से चोरी किए गए केबल के 16 टुकड़े बरामद हुए हैं. इसकी लंबाई 246 मीटर है. इसके अलावा इनसे एक केबल कटर, तीन लोहा काटने की आरी, रस्सा हुक लगा हुआ, तमंचा आदि सामान बरामद हुआ है.

इंस्पेक्टर का कहना है कि आरोपित मेट्रो लाइन से कॉपर के केबल की तार चोरी करते हैं. इससे पहले भी वे जेल जा चुके हैं. आरोपित चोरी के तार को कबाड़ी को बेचते हैं. इस केबल की कीमत 3 हजार प्रति मीटर है. इसे कबाड़ी आधी कीमत पर खरीद लेते हैं. इससे पहले आरोपितों ने ओखला मेट्रो लाइन दिल्ली से भी तार चोरी की थी. उन्होंने बताया कि 6 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है वहीं इसका भी पता लगाया जा रहा है कि कहीं ये कोई गिरोह काम तो नहीं कर रहा है.

Share This Post