हजरतगंज का नाम बदलने के बाद अब नंबर था “किंग जार्ज मेडिकल” का.. योगी सरकार एक्शन में

उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के लिए सबसे पहले जरूरी था गुलामी की उन निशानियों को खत्म करना जिनके चतले आज़ाद भारत में भी घुटन जैसी महसूस होती थी उन देशभक्तो को जो मुगलों और अंग्रेजो के अत्याचार को चाटुकारों के नहीं बल्कि वास्तविक इतिहास की किताबों में पढ़े हुए हैं . योगी सरकार के तमाम मास्टर स्ट्रोक में एक और स्ट्रोक जुड़ने वाला है जिसके बाद प्रदेश भर में ख़ुशी की लहर है .

ध्यान देने योग्य है की सबसे पहले मुगलसराय जैसा नाम हटाया , फिर इलाहबाद को प्रयाग बनाने की कयावाद हुई . इसके बाद हजरतगंज चौराहे को अटल जी के नाम पर बदलने के बाद अब नंबर लगा है किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी का .. योगी सरकार के एक और कड़े फैसले में आ सकता है उसका भी नाम . उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चप्पे-चप्पे को अटलमय बनाने की जुगत में योगी सरकार ने एक और कदम आगे बढ़ाया है।  मेयर संयुक्ता भाटिया ने हजरतगंज चौराहे के नाम पर अटल चौक के नाम पर मोहर लगाई थी। 31 अगस्त को कार्यकारिणी की बैठक में भाजपा पार्षद दल के साथ-साथ सभी विपक्षी पार्षदों की सहमति से हजरतगंज चौराहे का नाम बदलकर अटल चौक रखने पर सहमति जताई गई थी।

राजधानी लखनऊ के चौक स्थित केजीएमयू के साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर का नाम बदलकर अब अटल बिहारी वाजपेयी साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर किया जाएगा। इससे पहले हजरतगंज चौराहे का नाम बदलकर अटल चौक रखा गया था। इसके बाद अब योगी सरकार ने केजीएमयू के साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर का नाम भी भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी के नाम पर कर दिया गया है। इसमें से इस्माइलगंज का नगर निगम डिग्री कॉलेज और अवध चौराहे से दुबग्गा चौराहे तक के हाई वे का नाम अटल जी के नाम पर रखा जाएगा। यद्द्पि इन प्रस्तावों पर शासन की मोहर लगना अभी बाकी है।

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *