एक बार पुनः उग्र हो उठा इजराइल… लाश में बदल दिए 7 फिलिस्तीनी उन्मादी

इस्लामिक आतंकियों के खिलाफ बेहद ही कड़ी कार्यवाही के लिए विख्यात इजराइल की सेना एक बार पुनः फिलिस्तीनी उन्मादियों पर कहर बनकर टूटी है तथा 7 फिलिस्तीनी उन्मादियों को मार गिराया है. खबर के मुताबिक़, इस्लामिक जगत का सबसे बड़ा दुश्मन माना जाने वाले इजराइल की सेना की बंदूकें गाजा पट्टी में एक बार पुनः गरज उठीं जिसमें कम से कम 7 फिलिस्तीनी मारे गये वहीं 507 से अधिक घायल हो गये. फिलिस्तीनी उन्मादियों के खिलाफ इस कार्यवाही से इजराइल ने फिर से साफ़ कर दिया है कि वह कभी मजहबी चरमपंथ को स्वीकार नहीं करेगा तथा उसकी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है.

फ़िलिस्तीन के स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार शुक्रवार को ग़ज़्ज़ा की सीमा के निकट इस्राईली सैनिकों से होने वाली झड़पों में 7 फ़िलिस्तीनी नागरिकों की मौत हो गयी.  फ़िलिस्तीन के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ़ क़दरा ने बताया कि दक्षिणी ग़ज़्ज़ा के ख़ान यूनूस की सीमा के निकट सिर में गोली लगने से  नासिर मुस्बेह ने दम तोड़ गया जबकि केन्द्रीय ग़ज़्ज़ा के अलबुरैज कैंप में इस्राईली सैनिकों की ओर से प्रदर्शनकारियों पर सीधी फ़ायरिंग के परिणाम में मुहम्मद हमूम की भी जान चली गयी. अशरफ क़दरा ने बताया कि सीमा पर होने वाली झड़पों में इस्राईली सेना की फ़ायरिंग से 5 अन्य युवाओं की जान गयी है जबकि 507 से अधिक लोग घायल हुए हैं जिन्हें अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

इजराइली सेना का दावा है कि सीमा के निकट विभिन्न स्थानों पर 20 हज़ार से अधिक लोग शांति भंग करने के लिए एकत्रित हुए और उन्होंने विभिन्न स्थानों से सेना पर हथगोले और ज्वलनशील पदार्थों से हमला किया. इजराइल की सेना ने कहा कि उनका हमेशा से स्टैंड रहा है कि उसे विरोध प्रदर्शन से कोई आपत्ति नहीं है लेकिन जब भी इजराइल की एकता अखंडता पर हमला किया जाएगा तो इजराइल की सेना उसका मुंहतोड़ जवाब देगी और हमने यही किया है.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *