चीन के मुस्लिमों के लिए बन रहा चीनी क़ानून,, उसको उन्हें मानना ही होगा.. चीन का नया एलान

पिछले काफी लंबे समय से ये खबरें सामने आती रही हैं कि चीन में उइगर मुस्लिमों के साथ धार्मिक आधार पर भेदभाव किया जा रहा है, उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है. लेकिन अब चीन से जो खबर आई हो वो और भी अधिक चौकाने वाली है. खबर के मुताबिक़, चीन में इस्लाम का स्वदेशीकरण करने के लिए नया कानून बनाया गया है. इसके मुताबिक अगले 5 साल में इस्लाम में चीन के मूल्यों को शामिल किया जाएगा. कानून में इस्लाम के ‘सिनिसाइजेशन’ की बात कही गई है, जिसका अर्थ होता है किसी चीज का चीनीकरण करना. साफ़ है कि चीन में इस्लाम में बदलाव होगा.

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक चीन के सरकारी अधिकारियों के 8 इस्लामिक असोसिएशन से बात करने के बाद यह फैसला लिया गया. ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने इस बात पर सहमति जताई की इस्लाम में समाजवाद के मूल्यों को शामिल किया जाए और धर्म का चीनीकरण किया जाए. हालांकि अभी यह नहीं बताया गया है कि इस्लाम का चीनीकरण करने का तरीका क्या होगा. चीन के शिनजियांग प्रांत में उइगुर मुस्लिमों पर रोक की खबरों के बाद यह नियम बनाया गया है.

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक करीब 10 लाख उइगुर मुस्लिमों को चीन ने कैंपों में रखा है और उन्हें इस्लाम के मुताबिक परंपराओं का पालन नहीं करने दिया जा रहा है. बता दें कि चीन के कई हिस्सों में इस्लाम को मानना अवैध है। इन इलाकों में रोजा रखने, नमाज अदा करने, दाढ़ी बढ़ाने या फिर हिजाब पहनने पर गिरफ्तार किया जा सकता है.

 

Share This Post