Breaking News:

मुस्लिमों के बाद अब ईसाइयों के खिलाफ आक्रामक हो रहा चीन… नये फरमान से यूरोप तक खलबली

पिछले दिनों ही मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने चीन के पश्चिमी प्रांत शिजियांग में मुस्लिमों के खिलाफ सरकारी दमन पर चिंता जताई थी तथा कहा था कि चीन के शिनजियांग प्रांत में उइगर मुस्लिमों को प्रताड़ित किया जा रहा है. एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट  में कहा था कि चीन में मुस्लिमों पर अत्याचार का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि शिनजियांग में मुस्लिमों को कैंपों में कैदी बनाकर रखा गया है, उन्हें नमाज पढने से रोका जा रहा है, उन्हें दाढ़ी बढाने से रोका जा रहा है.  इस रिपोर्ट के बाद दुनियाभर में खलबली मच गयी थी लेकिन चीन पर इसका कुछ भी फर्क नहीं पड़ा था. चीन सरकार ने साफ़ कर दिया था कि वह अपने देश को सीरिया व लीबिया नहीं बनने देगा.

मदरसे में फिर 10 साल की बच्ची का यौन शोषण. 52 साल का मौलाना पुलिस की गिरफ्त में

लेकिन अब चीन से जो खबर आयी है वो और भी अधिक चौकाने वाली है. नास्तिक कम्यूनिस्ट विचारधारा वाले चीन ने मुस्लिमों के बाद अब ईसाइयों का नंबर लगाया है जिसके बाद न सिर्फ यूरोपीय मुल्क बल्कि पूरी दुनिया आश्चर्यचकित है. ये कम्युनिस्ट विचारधारा वो विचारधारा है जो धर्म को जहर के समान मानती है और धर्म को मानने वालों को अपना शत्रु. इस विचारधारा को मानने  वाले लोग दुनियाभर में मौजूद हैं और इसी विचारधारा के चीन ने अब मुस्लिमों के ईसाईयों के खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर  दिया है, जिसके निशाने पर न सिर्फ ईसाई जनता बल्कि चर्च और पादरी भी है.

खबर के मुताबिक़, चीन सरकार ने राजधानी बीजिंग सहित तमाम बड़े  मौजूद गिरिजाघरों और चर्चों को बंद कराने, ढहाने का आदेश दे दिया है. स्थिति ये हो गयी है कि हेनान प्रांत में रोमन कैथोलिकों समुदाय के पास प्रार्थना करने के लिए कोई जगह नहीं बची है. इसका उदाहरण मध्य चीन के कैथोलिक चर्च के बाहर लगे एक सरकारी साइन बोर्ड में देखा जा सकता है. जिसमें बच्चों को प्रार्थना में नहीं शामिल होने की चेतावनी दी गई है. साथ ही चीन में बड़े पैमाने पर “अवैध” चर्च गिराए जा रहे हैं.  चीन सरकार ने चर्च के शीर्ष पर से क्रॉस हटाने का आदेश दिया है. इसके अलावा सरकार ने चर्च से मुद्रित धार्मिक सामग्रियों और पवित्र चीजों को जब्त कर लिया गया है, और चर्च द्वारा चलाए जाने वाले केजी स्कूलों को बंद कर दिया गया है. इसके अतिरिक्त सार्वजनिक स्थानों से धार्मिक प्रतिमाओं को हटाने को भी कहा गया है.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *