भगत, बिस्मिल, चंद्रशेखर की आत्मा को भेद गया बसपा नेता का बयान… पूरे देश में आक्रोश की लहर

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री तथा बहुजन मसाज पार्टी प्रमुख मायावती का वो बयान  देश आज भी नहीं भूला है जिसमें उन्होंने आजादी के महानतम योद्धा, अमर बलिदानी चद्रशेखर आजाद को आतंकी बताया था. अब मायावती के ख़ास तथा बसपा के नेता ने एक बार पुनः ऐसा बयान दिया है जो आजादी के नायक भगत, सुभाष, आजाद, सावरकर, बिस्मिल, मंगल पांडे आदि की आत्मा को भेद गया होगा जिन्होंने अपना तन-मन-धन भारतमाता को अंग्रेजों की गुलामी की जंजीरों से मुक्त कराने में समर्पित कर दिया था.

मायावती के ख़ास तथा बसपा नेता धर्मवीर सिंह अशोक ने कहा कि भारत में अंग्रेजों को 100 साल तक और राज करना चाहिए था. अगर वह ऐसा करते तो एससी, एसटी और ओबीसी वर्ग की हालत काफी बेहतर होती. उन्होंने कहा कि अगर अंग्रेजों ने भारत पर 100 साल तक और राज किया होता तो ये सभी पिछड़े वर्ग के लोग इतने दबे-कुचले नहीं होते. धर्मवीर सिंह अशोक ने कहा कि अंग्रेजों के शासनकाल में बाबा साहब भीमराव अंबेडकर को पढ़ाई का मौका मिला था. अगर अंग्रेज भारत में नहीं आए होते तो यहां कोई स्कूल नहीं होता और बाबा साहब का किसी स्कूल में दाखिला नहीं होता.

राजस्थान में एक चुनावी रैली के दौरान राजस्थान में बसपा प्रभारी धर्मवीर सिंह अशोक ने कहा कि अंग्रेजों की वजह से ही देश में शिक्षा व्यवस्था बेहतर हुई थी, जिसकी वजह से बाबा साहब स्कूल गए और उन्होंने बेहतर पढ़ाई की. उन्होंने पिछड़े, दबे, कुचले और शोषितों के लिए काम किया. यही वजह है कि आज इस वर्ग को कुछ हद तक राहत है. बसपा नेता ने कहा कि अगर अंग्रेजों ने बाबा साहब को पढ़ने नहीं दिया होता तो वह देश में पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए काम नहीं कर पाते.

Share This Post

Leave a Reply