हम आये तो सरकारी संस्थाओ से खत्म होगा RSS का अस्तित्व- कांग्रेस .. एक बार भी नहीं लिया लश्कर, हिजबुल , जैश या PFI को खत्म करने का संकल्प

एक बार फिर से कांग्रेस अपने पुराने ढर्रे पर आती दिख रही है . उसने सीधे सीधे अपनी लड़ाई राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से बताई है और उसको खत्म करने के लिए अपने संकल्प को दोहराया है . निशाने पर सीधे सीधे संघ रहा है कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गाँधी के और उनके साथ सभी अन्य पदाधिकारियों के . लेकिन इस पूरे बयानबाजी में कहीं भी भारत की जनता व् सैनिको के लिए संकट बने आतंकी संगठनो का नाम नहीं आया .

कांग्रेस के राष्ट्रीय अल्पसंख्यक सम्मेलन को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के साथ-साथ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पर जमकर हमला बोला। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जो लोग भारत को धर्म के आधार पर विभाजित करना चाहते हैं, उन्हें देश के निर्माण में अल्पसंख्यकों के योगदान को नहीं भूलना चाहिए। साथ ही उन्होंने आरएसएस के प्रति झुकाव रखने वाले आईएएस अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि हम मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ के विभिन्न सरकारी संस्थानों में मौजूद सभी आरएसएस समर्थक नौकरशाहों को एक-एक कर निकालने का काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि वे आरएसएस के नहीं, भारत के नौकरशाह हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसारगांधी ने कहा कि यह देश हिंदुस्तान के हर व्यक्ति का है। लड़ाई दो विचारधाराओं के बीच है। एक विचारधारा कहती है कि यह देश एक प्रोडक्ट (उत्पाद) है। दूसरी तरफ एक विचाराधारा कहती है कि यह देश सबका है। इस पूरे भाषण और घोषणा में एक बार भी देश के अन्दर खून बहा रहे आतंकी संगठनों का नाम न लेना हर किसी को हैरान करता रहा..

Share This Post