Breaking News:

21 अगस्त- जन्म दिवस लेफ्टिनेंट नटराजन पार्थिबन, गोलियों से छलनी ये वीर लड़ता रहा इस्लामिक आतंकियों से और 4 को मार कर अमर हो गया

कोई कितना भी कोशिश क्यों ना कर ले हर त्याग और बलिदान को अपने और अपने घर वालों के आस पास समेट कर रखने की . कोई कुछ भी कर ले ये बताने और झूठ में समझाने के लिए कि उसके अलावा बाकी सब आज़ादी और एकता की लड़ाई से बाहर रहे हैं .. पर सच की गवाही समय देता है और वही समय आज भी एक इतिहास सामने प्रस्तुत कर रहा है जब भारत भूमि की इस्लामिक आतंक से रक्षा करने वाला एक और अमर बलिदानी लेफ्टिनेंट नटराजन पार्थिबन आज ही के दिन अर्थात २१ अगस्त 1983 को जन्म लिया था …

इस महावीर लेफ्टिनेंट नटराजन का जन्म 21 अगस्त 1983 को अपनी ही तरह वीर और बहादुर सेवानिवृत मेजर वी. नटराजन और श्रीमती तमिलसेल्वी के परिवार में हुआ | 8 अगस्त 2005 को वह “अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी चैन्नई” में भर्ती हुए | पूरे 42 हफ्तों के कठोर प्रशिक्षण के बाद वह इस सैन्य अकादमी से सेना के एक अधिकारी के रूप में बाहर निकले | 18 मार्च 2006 को वह अपनी यूनिट 5 जम्मू & कश्मीर लाईट इन्फैंट्री में शामिल हुए | उन्होनें Counter Insurgency और Jungle Warfare का CIJW स्कूल से कोर्स किया था | उन्हे उत्तरी कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर गुरेज सेक्टर में तैनात किया गया |

7 अक्टूबर 2006 को सुबह 6:30 बजे कुछ दुर्दांत पाकिस्तानी आतंकियों ने नियंत्रण रेखा पार करने की कोशिश की | हालांकि घुसपैठ का यह प्रयास लेफ्टिनेंट नटराजन के कुशल नेतृत्व में उनके सैनिकों ने सफलतापूर्क नाकाम कर दिया | घुसपैठ का प्रयास विफल होने पर हताशा में आतंकियों ने लेफ्टिनेंट नटराजन पर गोलियां चलाई, जिस से यह अधिकारी गंभीर रूप से घायल हो गए | घायल होने के बावजूद भी अपनी निजी सुरक्षा से बेपरवाह लेफ्टिनेंट नटराजन ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया, जिस में चार दुर्दांत आतंकी मार गिराए गए और मृत आतंकियों से भारी मात्रा में हथियार और गोलाबारूद बरामद किया गया | लेफ्टिनेंट नटराजन पार्थिबन अतुलनीय साहस, विशिष्ट वीरता, प्रेरणादायक नेतृत्व और कर्त्तव्य के प्रति अदम्य समर्पण वाले सैनिक थे | जिन्होने भारतीय सेना की बलिदान की परंपरा को कायम रखते देश की आन,बान, शान के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया |

लेफ्टिनेंट नटराजन आतंक के खिलाफ अपनी वीरतापूर्वक कार्रवाई के लिए भारत के महामहिम राष्ट्रपति द्वारा वीरगतिउपरान्त कीर्ति चक्र से सम्मानित किए गए .. इस्लामिक आतंक से भारतवर्ष की एकता और अखंडता पर प्राण न्यौछावर करने वाले भारत माँ के वीर सपूत को आज उन के जन्म दिवस पर सम्पूर्ण सुदर्शन न्यूज परिवार उस महावीर को बारम्बार नमन , वन्दन और अभिनन्दन करता है .. साथ ही भारत की एकता और अखंडता के असली नायकों को दुनिया के आगे सदैव ला कर उन्हें सम्मान दिलाने का संकल्प दोहराता है . लेफ्टिनेंट नटराजन अमर रहें … जय हिन्द की सेना .  

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *