Breaking News:

अयोध्या राम की है तो वहां राम मंदिर ही बनेगा और कुछ नहीं…नए सरकार्यवाहक ने दोहराया संघ का संकल्प

कल 10 मार्च को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(RSS) के सरकार्यवाहक(महासचिव) का चुनाव संपन्न हुआ जिसमें भैय्या जी जोशी को लगातर तीसरी बार संघ का महासचिव चुनाव चुना गया. लगातार तीसरी बार महासचिव चुने जाने के बाद भैय्या जी जोशी ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के के लिए अपना संकल्प दोहराया तथा कहा कि अयोध्या में रामजन्मभूमि पर श्रीराम  मंदिर ही बनेगा और कुछ नहीं. उन्होंने कहा कि ये संघ का संकल्प है कि अयोध्या राम की है तो वहां राम मंदिर का निर्माण ही होना है.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) महासचिव भैयाजी जोशी ने कहा कि राम मंदिर बनना तय है, वहां दूसरा कुछ बन नहीं सकता लेकिन प्रक्रिया से जाना पड़ेगा. न्यायालय के निर्णय के बाद मंदिर निर्माण शुरू होगा. राम मंदिर पर आम सहमति बनना आसान नहीं जो पर जो प्रयास हो रहे हैं उसका हम स्वागत करते हैं. भैय्या जी जोशी ने कहा कि आम सहमति बनाने के प्रयास पहले भी हुए हैं, पहले भी हिन्दू समाज ने आपसे वार्तालाप से इस मुद्दे को सुलझाने की कोशिश की है लेकिन सबको पता है कि परिणाम शून्य ही निकला है. उन्होंने कहा कि जो भी हो लेकिन अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा जरूर होगा, वहां मंदिर के अलावा दूसरा कुछ नही बन सकता है.

ज्ञात हो कि भैय्या जी जोशी 2009 से ही आरएसएस के महासचिव हैं. शनिवार को प्रतिनिधि सभा ने महासचिव के पद के लिए फिर से उनके नाम की घोषणा की थी. उनके खिलाफ किसी अन्य ने दावेदारी पेश नहीं की, इसलिए भैयाजी जोशी निर्विरोध सरकार्यवाह चुने गए. सरकार्यवाह का कार्यकाल तीन साल के लिए होता है. कल तीसरी बार फिर से चुने जाने के बाद 2021 तक महासचिव बने रहेंगे. भैय्या जी जोशी  एच वी शेषाद्रि के बाद इतने लंबे कार्यकाल के लिए आरएसएस के सरकार्यवाह(महासचिव) रहने वाले दूसरे व्यक्ति हैं. शेषाद्रि जी 1987 से 2000 तक इस पद पर रहे थे. संघ के महासचिव(सरकार्यवाहक)  इसके कार्यकारी प्रमुख होते हैं जो संगठन के रोजाना के कार्यों की देखरेख करते हैं.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *