जनसंख्या नियंत्रण कानून की मुहिम ले कर निकले श्री सुरेश चव्हाणके जी ने जबलपुर में विशाल जनसभा को किया संबोधित.. भगवामय हुआ जबलपुर

जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग के लिए आयोजित की गई रैली को संबोधित करने के लिए राष्ट्र निर्माण संस्था के अध्यक्ष तथा सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक श्री सुरेश चव्हाणके जी आज मध्य प्रदेश पहुंचे. जयश्रीराम तथा “हम दो हमारे दो तो सबके दो” के नारों के साथ श्री चव्हाणके जी का जबलपुर में स्वागत किया गया. श्री सुरेश जी को सुनने के लिए जबलपुर में विशाल जनसमुदाय उमड़ पड़ा तथा पूरा शहर भगवा रंग में रंगा हुआ दिखाई दिया.

रैली को संबोधित करते हुए श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि आज देश में जनसंख्या असंतुलन बढ़ता ही जा रहा है तथा स्थिति ये हो गई है कि देश के कई हिस्सों में हिन्दू समाज अल्पसंख्यक हो गया है, देश मिनी पाकिस्तान बनता जा रहा है. श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि एक साजिश के तहत मजहबी कट्टरपंथी जनसख्या बढाने पर जोर दे रहे हैं ताकि आने वाले समय में वो हिंदुस्तान को “गजवा- ए- हिन्द” बना सकें, हिंदुस्तान की मूल आर्य सनातनी संस्कृति को मिटाकर शरिया लागू कर सकें. श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि अगर समय रहते जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं बनाया गया तो बहुत जल्द हिंदुस्तान की स्थिति पाकिस्तान, सीरिया, लीबिया की तरह हो जायेगी.

श्री सुरेश चव्हाणके जी ने कहा कि जिस तरह से कश्मीर में हिन्दुओं पर अत्याचार हुए तथा उन्हें पलायन करना पड़ा, जिस तरह से कैराना से हिन्दुओं को पलायन करना पड़ा, जिस तरह से पश्चिम बंगाल, केरल तथा देश में कई अन्य जगहों पर कुछ मजहबी आक्रान्ताओं द्वारा हिन्दुओं का दमन हुआ तथा अभी भी हो रहा है, उससे साफ संकेत मिल रहे हैं कि हिन्दुस्तान एक बार दिर से गुलामी की तरफ बढ़ रहा है, मुगलिया सल्तनत की तरफ बढ़ रहा है. हिंदुस्तान की सभ्यता, संस्कृति पर होते इन अत्याचारों को रोकने के लिए, हिंदुस्तान को एक इस्लामिक राष्ट्र  बनने  रोकने के लिए ही उन्होंने “हम दो हमारे दो तो सबके दो” के मिशन के साथ भारत बचाओ यात्रा निकाली थी.

विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रनिर्माण संगठन के अध्यक्ष सुरेश चव्हाणके ने देश में अनियंत्रित जन्मदर और अवैध घुसपैठ के कारण देश मे उत्पन्न जनसँख्या असंतुलन को देश की सम्प्रभुता के लिए अत्यंत खतरनाक और चिंताजनक बताते हुए कहा कि इस असंतुलन के कारण कई राज्यों में कभी बहुसंख्यक रहे हिन्दू अल्पसंख्यक हो चुके हैं. उन्होंने कहा कि जहां जहां हिन्दू अल्पसंख्यक हुए हैं वहां विभाजनकारी तत्व मज़बूत हुए हैं और देश को बांटने की कोशिशें की हैं. 1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर ही हुआ था लेकिन आज एक बार फिर से धर्म के आधार पर देश को विभाजित करने की मांग उठने लगी है. उन्होंने जनसँख्या असंतुलन को इसका जिम्मेदार बताते हुए कहा कि कठोर और प्रभावी जनसँख्या नियंत्रण कानून शीघ्र बनाकर इसे लागू नहीं किया गया तो जनसँख्या असंतुलन के कारण पूरे देश मे हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे तथा 2029 के बाद कोई हिन्दू देश का प्रधानमंत्री नहीं बन पाएगा, देश के टुकड़े करने वाले तत्व मज़बूत होंगे.

श्री सुरेश जी ने कहा कि आज ही यह स्थिति है कि भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा देने वाले द्रोहियों का तथाकथित सेक्युलर पार्टियां और मीडिया समर्थन करतीं हैं. देश तोड़ने वाले नारे को अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर सही बताया जाता है और हम दो हमारे दो तो सबके दो के समता मूलक नारे को सांप्रदायिक कहा जाता है. उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह है कि जब जब हिन्दू घटा है तब तब देश कमज़ोर हुआ है और इसे विभाजन का अभिशाप झेलना पड़ा लेकिन अब ऐसा नहीं होने देंगे, देश का और विभाजन नहीं होने देंगे. उन्होंने कहा कि देश के लगभग 225 से ज्यादा सांसदों ने जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग का समर्थन किया है तथा भाजपा सांसद संजीव बालियान संसद में जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए प्राइवेट मेंबर बिल लाने वाले हैं तथा पक्ष और विपक्ष के कई सांसद इस बिल का समर्थन कर रहे हैं. श्री सुरेश जी ने प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी, सत्ता तथा विपक्ष के सभी सांसदों से अपील करते हुए कहा वह हिंदुस्तान को बचाने के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाएं.

Share This Post

Leave a Reply