गाँव से गायब होकर आखिर यहाँ कैसे पहुँच गई बालिका ? सरबर आलम का नाम आ रहा प्रकाश में

देवभूमि उत्तराखंड में उत्तरकाशी पुरोला ब्लॉक के एक गांव से बीते 3 जनवरी को संदिग्ध परिस्थिति में लापता हुई नाबालिग मेरठ के नारी निकेतन से बरामद की गई है. इस दौरान यह नाबालिग बलात्कार की भी शिकार हुई है. पीड़िता के बयान और मेडिकल में दुष्कर्म की पुष्टि होने के बाद पुलिस ने गांव की ही एक महिला और कैराना उत्तर प्रदेश निवासी सरबर पुत्र खुर्शीद युवक के खिलाफ पोक्सो एक्ट समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है तथा पुलिस ने जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा किया है.

खबर के मुताबिक़, तीन जनवरी को प्रखंड के एक गांव की आठवीं कक्षा की नाबालिग छात्रा स्कूल के बाद अपने चाचा के घर जाने की बात कह कर घर से निकली थी. दो दिन बाद भी जब वह चाचा के घर नहीं पहुंची, तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की.  कुछ पता नहीं चलने पर परिजनों ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराकर गांव की ही एक महिला पर उसे बहला फुसला कर भगा ले जाने का आरोप लगाया. पुलिस ने जानकारी जुटाई तो पता चला कि छात्रा के गायब होने के अगले दिन वह महिला भी अपने घर से लापता हो गई. पुलिस ने छात्रा के फोन नंबर को सर्विलांस पर लगाकर पड़ताल की. इसी दौरान नारी निकेतन मेरठ में छात्रा की मौजूदगी की सूचना पुलिस को मिली. न्यायालय के आदेश के साथ मेरठ पहुंची पुरोला थाना पुलिस छात्रा को लेकर शुक्रवार को लौटी.

पुलिस पूछताछ में नाबालिग छात्रा ने बताया कि गांव की ही एक महिला ने अपने परिचित युवक से फोन पर बात कराने के बाद उसे सहारनपुर जाने वाली बस में बैठा दिया था. वहां से खुरगान कैराना शामली निवासी सरबर पुत्र खुर्शीद उसे अपने घर ले गया, जहां तीन दिन तक उसके साथ दुष्कर्म किया. बाद में आरोपित महिला का फोन आने पर वह युवक उसे कैराना में छोड़कर भाग गया, जहां से पुलिस ने पूछताछ के बाद उसे नारी निकेतन मेरठ भेज दिया. मामले की जांच कर रहे पुलिस उपनिरीक्षक नवीन कुमार ने बताया कि पीड़िता के मेडिकल में बलात्कार की पुष्टि हुई है। आरोपित महिला और युवक के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है तथा जल्द ही महिला तथा आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

Share This Post