कांग्रेस तो इस फिल्म को बैन करवाना चाहती थी . पर ये तो इतना आगे निकल गयी

चर्चा में रही नेशनल अवार्ड विनर डायरेक्टर मधुर भंडारकर की फिल्म ‘इंदु सरकार’ को अब नॉर्वे के फिल्म फेस्टिवल में दिखाया जाएगा। फिल्म ‘इंदु सरकार’ की स्क्रीनिंग के साथ ही नॉर्वे फिल्मोत्सव शुरू होगा। इस बात की खुद मधुर भंडारकर ने ट्वीट करके पुष्टि की है। ट्विटर पर मधुर भंडारकर ने एक तस्वीर शेयर की जिसमे वह पत्रिका पढ़ रहे हैं और तस्वीर के साथ लिखा कि “ओस्लो जा रहा हूं. नॉर्वे के बॉलीवुड फेस्टिवल में आठ सितंबर को ‘इंदु सरकार’ दिखाई जाएगी.”

बता दे कि इस फिल्म में नील नीतिन मुकेश, कृति कुल्हाड़ी, तोता रॉय चौधरी, सुप्रिया विनोद, अनुपम खेर ने काम किया है। ये फिल्म 1975-1977 के आपातकाल के परिदृश्य पर फिल्माई गई फिल्म है जिसमे दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गाधी और उनके बेटे संजय गांधी पर आधारित किरदारों को भी दिखाया गया है। इसी कारण ये फिल्म विवादों में घिरी रही और कांग्रेस की आलोचनाओं का शिकार भी बनी थी।
इतना ही नहीं इस फिल्म को रिलीज होने से रोकने के लिए कांग्रेस पार्टी ने बहुत कोशिश की लेकिन बाद में सेंसर बोर्ड ने ‘इंदु सरकार’ पर कुछ कट के साथ फिल्म को सर्टिफिकेट दिया था। मधुर भंडारकर पर इस फिल्म के लिए काफी कुछ सहना पड़ा। कांग्रेस के कार्यकर्ताओ ने मधुर भंडारकर के घर पर पत्थरबाजी तक की इस फिल्म को रोकने के लिए। सेंसर बोर्ड के इस फिल्म को पास कर देने के बाद सेंसर बोर्ड प्रमुख पहलाज निहलानी ने मोदी सरकार की मंत्री स्मृति ईरानी पर आरोप लगया था कि उन्होंने फिल्म को बिनी किसी कट के पास करने के लिए दबाव डाला था। इसी झूठे आरोप के चलते उन्हें उनके पद से हटा दिया था।

Share This Post

Leave a Reply